Category Archives: Reservation

आरक्षण या प्रतिनिधित्व


आज बहुत ज्यादा तबियत खराब होने के बाबजूद मुझे लिखना पड़ रहा है क्योकि कुछ लोग बहुत ही बड़े भक्त लोग बन गए है. शायद मेरे ही समाज के कुछ लोगों को यह पोस्ट बुरी लगे लेकिन मुझे लिखते हुए … Continue reading

Posted in Reservation | Tagged , , , , , , | 8 Comments

आरक्षण का खून


भारत को आज़ाद हुए 66 साल हो गए लेकिन आज भी बहुत से काम अधूरे है जिनका वर्णन संविधान में किया गया है। देश में बनने वाली हर सरकार को आदेश दिया गया था कि यह काम प्राथमिकता के आधार … Continue reading

Posted in Current Affairs, Reservation | Tagged , , , | 4 Comments

आरक्षण “संरक्षण”


सत्ता” जिनकी होती है उन्हे “आरक्षण”की जरूरत नहीं पड़ती। “आरक्षण”-“संरक्षण” की जरूरत उन्हें होती है जिनके पास “सत्ता” नहीं होती।”असंरक्षित” वह होता है जो अपना “संरक्षण” करने लायक नहीं होता। “भारत के लोगों” को किनसे अपने “संरक्षण” के लिए “आरक्षण” की जरूरत … Continue reading

Posted in Reservation, Shudra Sangh | Tagged , , | 1 Comment

Reservation; Our Right


दोस्तों, सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार भारत में 50% आरक्षण का प्रावधान है. अर्थात 50% ब्राह्मणों, राजपूतों और वैश्यों को और 50% भारत के मूल निवासियों को.. यह हक हमे कोई मुफ्त में नहीं मिला है.. 200 सालों की लम्बी लड़ाई … Continue reading

Posted in Reservation | Tagged | 4 Comments

History of Reservation


हमारे मूल निवासी बहुजन समाज अर्थात एससी/ एसटी/ ओबीसी/ आपराधिक जन-जाति के बहुतांश पढे-लिखे विशेषतः अधिक पढे-लिखे लोगों को लगता है कि आरक्षण का मतलब बैसाखी है , भीख है ,लाचारीहै । किन्तु हमारे मूलनिवासी बहुजन समाज के महापुरुषों ने … Continue reading

Posted in Current Affairs, History, Reservation, Shudra Sangh | Tagged | 5 Comments

Aarkshan Ka Sach


करीब 2000 साल पहले जातियों का बनना शुरू हुआ ऐसा माना जाता है पहले कर्म आधारित जातियाँ नहीं थी । ब्राहमण ने भारतीय मूल निवासियो पर जीत के उपरांत जीते हुए लोगो को शुद्र कहना प्रारंभ किया . अब यहाँ … Continue reading

Posted in Reservation | Tagged | Leave a comment