Buddha and His Dhamma (IN HINDI)


बुद्ध और उनका धम्म नाम की किताब की रचना डॉ. भीम राव अम्बेडकर ने अपने जीवन के अंतिम बर्षों में की थी। मेंयह किताब बहुत बार पढ़ चूका हूँ और मेरा मानना है की यह किताब अपने आप में एक पूर्ण किताब है। जिस से हर बार मुझे मानव के कल्याण के कार्य करने के लिए एक अलग तरह का प्रोत्साहन मिलाता है। मैं फिर से अपनी पूरी उर्जा संगृहीत करके मानव के कल्याण के लिए कार्य करना शुरू कर देता हूँ। दूसरा यह किताब भीमयान या नव-बौद्धयान धम्म का आधार है। सभी पाठकों से आग्रह है कि यह किताब खुद भी पढ़े और समाज के लोगों को भी पढ़ने के लिए प्रेरित करे।

बुद्ध और उनका धम्मClick below to Download the book:

Download Bheem Sangh

Advertisements

About Bheem Sangh

Visit us at; http://BheemSangh.wordpress.com
This entry was posted in Bheem Sangh, Books, Dr. BR Ambedkar, Scriptures and tagged , , , . Bookmark the permalink.

8 Responses to Buddha and His Dhamma (IN HINDI)

  1. ajay kumar says:

    sabhi kitabo ke liye bahut dhanyvad aur bhim sangh ko aur bal mile.

  2. vitthal sudhakar dandge says:

    Jay bhim , muze bahut khusi hui main isika intajar kar raha tha ………………… aapka bahut bahut dhanyawad

  3. Kiran Bansode says:

    Excellent

  4. Bharat Vaghela says:

    Very good
    How can I Advertise your website.

  5. Buvasaheb P Ahiwale says:

    Really excellent

  6. Vishal Waghmare says:

    Please send me the new updated books because this books are very useful and informative

    Jai bhim

  7. Kuldeep tandan (K.S.P) says:

    बहुत दिनों से मैं इस बाबा साहेब द्वारा लिखी book को पढ़ना चाह रहा था पर कहा मिलेगा यही सोच रहा था। यहाँ इतनी आसानी से मिल गया । आपका बहुत सुक्रिया ।।।
    जय भीम ,नमो बुद्धाय , जय भारत।

  8. Kapil says:

    Jai Bhim
    सराहनीय कदम

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s