Salute to Jitan Majhi


majhitदोस्तों.. हमे जतिन मांझी जी की बात को समझना होगा… माननीय जतिन जी ने जो कहा वो शब्द हर समाचारपत्र और वेबसाइट से गायब किये जा रहे है.. जो दर्द आज जीतन माझी ने ब्यान किया है वह दर्द किसी समय बाबा साहब ने ब्यान किया था.. आज हम समझ सकते है कि अपने लोगों का सहयोग ना होने के कारण हमारा बड़े से बड़ा नेता भी जीतन माझी की तरह लाचार है.. जब तक हम सभी एक झंडे नीचे इक्कठा नहीं होंगे तब तक हमारा या हमारे समाज के नेता कुछ नहीं कर सकते… ब्राह्मण हर हाल में उनके विरोध में प्रयोग किये गए शब्दों को इन्टरनेट, किताबों, और हर जगह से गायब करने में लगा हुआ है.. पिछले कल जीतन माझी के ब्यान को भी धीरे धीरे मिटने की कोशिशे शुरू हुई और आज जीतन माझी का ब्यान हर बड़ी समाचार या दूसरी वेबसाइट से गायब हो चूका है… ब्राहमण जीतन माझी के ब्यान को चुनौती नहीं दे सकता क्योकि ब्राह्मण जानता है कि वो विदेशी है.. अगर ब्राहमण जीतन माझी के ब्यान को चुनौती देगा तो सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया भी ब्राह्मणों को देश के शीर्ष पदों से बाहर निकल सकता है.. क्योकि सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया 2001 में पहले ही DNA Report 2001 के कारण मान चूका है कि ब्राह्मण विदेशी है…
माझी जी ने कहा, “अपने बच्चों को शिक्षा दिलाओ.. तभी तुम लोग उन्नति कर सकते हो… मेरे पिता जी ने शराब छोड़ी तो मैं बिहार का मुख्यमंत्री बन सका.. मेरे पिता जी शराब नहीं छोडते तो में आज मुख्यमंत्री नहीं बन पता… यह देश मूलनिवासियों का है जिन में SC, ST, OBC और आदिवासी लोग आते है… ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य तो विदेशी आर्य है जो यूरेशिया से यहाँ आये है… इस देश पर अपना शासन स्थापित करो…”
दोस्तों माझी जी के इन शब्दों के दर्द को समझो… उठो जागो और एक हो जाओ.. जब तक तुम लोग एक नहीं हो होंगे.. ब्राह्मण क्षत्रिय और वैश्य ऐसे ही तुम्हारा शोषण करते रहेंगे….”
माझी का इशारा भी सीधे पढाई की तरफ है.. ताकि देश का हर मूलनिवासी नागरिक जागरूक हो सके और अपने अधिकार को जान कर देश के लिए लड़ कर अपना अधिकार हासिल करे… दोस्तों खली पढाई से ह्जुमारे देश के लोगों का कुछ नहीं हो सकता.. कृपया उठो.. और अपने देश के लोगों को सचाई से अवगत करवाओ.. उनको बताओ कि सचाई क्या है.. आप लोग यहाँ इस वेबसाइट से पढ़ कर जाते हो और खुद पर गर्व करने लगते हो.. लेकिन क्या आप लोगों ने इस वेबसाइट का जो मुख्य मकसद है उसको पूरा करने की कोई कोशिश की?? इस वेबसाइट का मुख्य उद्देश्य देश के मूलनिवासियों तक सचाई पहुँचाना है ना कि इस ज्ञान को इसी वेबसाइट तक सीमित रखना.. दोस्तों हर रोज यहाँ ज्ञान कम से कम तीन मूलनिवासियों के साथ शेयर करो.. अगर आप ईमानदारी से यह काम करोगे तो सिर्फ एक महीने में मूलनिवासियों के बारे जानकारी देश के हर मूलनिवासी घर तक पहुँच जायेगी… और फिर हमारे नेताओं और संघर्ष करने वालों के साथ कोई पक्षपात भरा व्यवहार नहीं करेगा जैसा आज जीतन माझी के साथ किया जा रहा है… अगर जीतीं माझी को मुख्यमंत्री के पद से हटा दिया जाता है तो यह उनकी हार नहीं… इस देश के मूलनिवासी की हार होगी… और उस हार के लिए हुनम सभी सामान रूप से जिमेवार होंगे…

उठो दोस्तों… जागो… सचाई हर मूलनिवासी तक पहुंचाओ…. एक हो जाओ… हम हारने के लिए नहीं जितने के लिए पैदा हुए है… यह देश हमारा है और हम इस देश के शासक है…  सचाई हर मूलनिवासी तक पहुंचाओ…
धन्य है माझी जी जो अपने लोगों के लिए इतना दर्द और प्यार अपने सीने में लिए लड़ रहे है… मैं सलाम करता हूँ माझी जी के जज्बे को…
जय भीम…
अध्यक्ष
भीम संघ

Advertisements

About Bheem Sangh

Visit us at; http://BheemSangh.wordpress.com
This entry was posted in Current Affairs and tagged , , . Bookmark the permalink.

One Response to Salute to Jitan Majhi

  1. charanjit singh moga punjab says:

    jay bhim jay mulnivasi bramn videshi mai jetan manjhi ji ke jajbe aur hmare mulnivasi bhaiyo ka dard chhene me rakhne wale aur akhauti unchi jatti bane manu ke chalon ke virudh awaj uthane ke liye education aur satta par kabaja karne ke liye mulnivasiyo ko janjhorne wale cm jetan ram manjhi sir ko mai koti koti naman karta hu kioke onhone bramno ki mansik gulamiko radd karte huye kaha hai ke mai kise devi devta ki puja nahi karta onho ne yeh bhi kaha ke iska ( puja) karne ka theka kewal ek jatti bramno ne lai rakha hai ……..kash…… kahni hmare dushre mulnivasi neta jo sc st obc & minurity se sambandh rakhte hai onko bhi bramno ki gulami ka ahsas ho jaye aur onki bhi anakh gairat jag pade to mulnivasiyo ka sasan bhut jaldi kaim ho sakta hai aur bramno ka safiya hokar bhart fir se sone ki chiri ban jaye jay bhim jay mulnivasi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s