चुनाव 2014-शूद्रों के साथ धोखा


Shudro ke sath dhokhaआज सुबह से चुनाव परिणाम पर हमारी नज़र लगी हुई है। सुबह देखा कि भाजपा की चार सीट्स के साथ बसपा की भी एक सीट लीडिंग में है। देख कर मन बहुत खुश हुआ, लेकिन जैसे जैसे समय बीतता गया सारी उम्मीदे धरी की धरी रह गई। उसके बाद हमारी टीम की तत्काल मीटिंग बुलाई गई और विचार विमर्श किया गया कि आखिर मूलनिवासी समाज की सभी राजनीतिक पार्टियों का हश्र इतना बुरा क्यों हुआ? आखिर कहा कमी है जिसके कारण मूलनिवासी राजनीतिक पार्टियों को लोक सभा की एक भी सीट नसीब नहीं हुई। जैसे जैसे विचार मंथन होता गया हर बात सामने आ गई। हमारी टीम ने पाया कि इस हार के पीछे दो प्रमुख कारण रहे। पहला मूलनिवासियों का हिंदू धर्म के प्रति मोह और दूसरा मूलनिवासी पार्टियों के नेताओं का घटियापन, ना समझी और बिकाउपन। आप लोगों को भी कोई और कारण लगे, जिसके कारण मूलनिवासी समाज लोक सभा से बहार हो गया। तो कृपया हमे जरुर बताये।

जहा तक हमे लगता है मूलनिवासियों के मन में जब तक ये धर्म और कर्म का झूठा डर बैठा हुआ है तब तक मूलनिवासी ब्राह्मणवाद से बाहर नहीं निकल सकते। हमारी हार का सबसे बड़ा कारण धर्म ही है। जब तक मूलनिवासी इस धर्म नाम के छलावे से बाहर नहीं आयेंगे, हिंदू देवी देवताओं और भगवानों की सचाई से वाफिक नहीं होंगे तक तक ये ब्राह्मणवादी ऐसे ही मूलनिवासियों पर राज करते रहेंगे। मूलनिवासी समाज के गुरुओं, पीरों और संतों के पास इस का कोई उत्तर नहीं है कि मूलनिवासी समाज को ब्राह्मणवादी भगवानों से कैसे दूर किया जाये। लेकिन आज हम अपने लक्ष्यों में एक और लक्ष्य जोडने का संकल्प कर रहे है। आज से हम देश में जगह जगह भीम राव जी अम्बेडकर के आश्रम या शिक्षण संस्थान खोलेंगे। जहा कोई घंटियाँ नहीं बजाई जाएँगी, कोई आरती नहीं होगी, कोई धुप दीप नहीं होगा, लेकिन मूलनिवासियों को उसी आश्रम में आकर बाबा साहब की मूर्ति के आगे खड़े होकर प्रार्थना करनी होगी। उन शिक्षण संस्थानों में देश के मूलनिवासियों को बाबा साहब जी के विचारों से अवगत करवाएंगे। जहाँ किसी धर्म की नहीं अम्बेडकरवाद की शिक्षा दी जायेगी। हमारा मानना है दुनिया की सभी समस्याओं का हल सिर्फ अम्बेडकरवाद में ही छुपा हुआ है। बाबा कांशी राम जी का कैडर सिस्टम तो हमारी टीम ने पहले ही अपना रखा है लेकिन अब उस पर और ज्यादा ध्यान देने की जरुरत है।ताकि मूलनिवासियों के मन से ब्राह्मणवादी भगवानों का डर दूर हो सके, ताकि मूलनिवासी समाज के लोग झूठे, पाखंडी और वाहियात देवी देवताओं के सच को समझे और ब्राह्मणवाद के खिलाफ खड़े हो सके।

मूलनिवासी राजनितिक पार्टियों के इन घटिया नेताओं को भी समय के साथ बदलना पड़ेगा। पिछले दिनों पता चला की मायावती भी बिक चुकी है और आज यह साबित भी हो गया। अगर मायावती बिकी नहीं होती तो उन्होंने मोदी की तरह 300-400 रैलियां क्यों नहीं की? इतनी सारी सीट्स पर ब्राह्मणों और राजपूतों को खड़ा करने की क्या जरुरत थी? मायावती कांशी राम जी और बाबा साहब अम्बेडकर जी के विचारों को कैसे भूल गई? बाबा साहब और कांशी राम जी ने अपने जीते जी कभी किसी ब्राह्मणवादी के आगे सिर नहीं झुकाया, कभी कोई समझोता नहीं किया तो मायावती में इतनी हिम्मत कैसे आ गई कि वो मूलनिवासियों के वोटों का, मूलनिवासियों के विश्वास का सौदा ब्राह्मणों और राजपूतों से करे? क्या यह मायावती की मूलनिवासियों को सता दिलाने के स्थान पर सता ब्रहामणों को सौपने की साजिश नहीं? ऐसे बहुत से प्रश्न खड़े जिनका अभी तक कोई जबाब नहीं मिल पाया है। ये सिर्फ मायावती की बात नहीं है। दूसरे मूलनिवासी राजनीतिक दलों का हाल तो इससे भी बुरा है। सभी राजनीतिक पार्टियों को मूलनिवासी समाज ने ऐसी लात मारी है जिसकी चोट से मूलनिवासी समाज आने वाले कई सालों तक उभर नहीं सकेगा।

शुद्र संघ आज फिर सभी मूलनिवासियों से अपील करता है। हमारी वेबसाइट को पढ़े, ब्राह्मणवादियों की सचाई हर मूलनिवासी तक पहुंचाओ। अपने अपने सदस्यता फॉर्म ऑनलाइन भर कर भेजे। शुद्र संघ से जुड़े, और देश के कोने कोने में शुद्र संघ की इकाइयों का गठन करे। अपनी इकाइयों की जानकारी हमे भेजे। और हर रोज तीन से चार घंटे शुद्र संघ को दे अर्थात उन घंटों में चार-पांच मूलनिवासियों को समझाए कि आखिर देश में हो क्या रहा है और हमे क्या करना है।भूल जाओ की आपका जाति क्या है, भूल जाओ की आपका धर्म क्या है। पेरियार जी के शब्दों में “धर्म और भगवान को तब तक भूल जाओ, जब तक हमे आज़ादी नहीं मिलती”।जब तक देश में मूलनिवासी शासन व्यवस्था स्थापित नहीं होती तब तक धर्म और भगवान को भूल जाओ। जब देश में मूलनिवासियों की सरकार होगी तब हम अपने आप अपना धर्म चुन लेंगे।

Advertisements

About Bheem Sangh

Visit us at; http://BheemSangh.wordpress.com
This entry was posted in Current Affairs and tagged , , , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

20 Responses to चुनाव 2014-शूद्रों के साथ धोखा

  1. dharmendra says:

    Mai Pasi hun fir bhi maine bsp ko vote nahi diya kyoki hamare loksabha seat se kapil muni karwaria tha…… Mayawati pandito ka sath chhod de otherwise party ka bura Hal ho jayega Sir….. Apka koi view ho jarur bataye Sir???

    • Neeraj Sagar says:

      vote for BMP, moolniwasiyon ki party

      • ravi says:

        BMP me meshram gaddar hai usne Kanshiram ji ko dhoka diya hai aur manuvadio se bik chuka hai iska koi bharosa ni hai ise vote dene ka matlab apne logo ke sath dhoka only vote for BSP

  2. honey says:

    glt soch hai na niche bnde ko dekh k party ko chod diya
    leader change ho jayega kl pr party ni
    n jisko vote dala uska kya bna

  3. vikram kanshi says:

    Mai aapki sabhi baton she sahamat hun.lekin bsp hair nahi adambar jeeta hai.his bahujan nayak kanshi sahab be daliton’pichadon ko rajniti karana sikhaya us parti ko midiya aur RSS ne jatiwadi batakar usko kamjor Kat diya.

  4. Vinod Ahire says:

    Sir msg me ur account number & ifsc code to donate some amount by mobile banking app.

  5. Wasi Ahmad says:

    BSP MAY BRAHMANO KI MEMBERSHIP KHATAM KAR DENA CHAHIYE. TABI PARTY UNNATI KAREYGI WARNA EIKDIN YEH KHATAM HO JAYEGI

  6. Basant Kujur says:

    BSP ab BRAMHAN SAMAJ PARTY ban gaye hai baba sahab ne kabhi bhi bramhano se satta-vyawastha ke liye samjhota nahi kiya magar unakey anuyayi yadi ab tak nahi sikh paye to gachha khakar hi sikh le,,,,?…?…..puspmitra sung,sabita ke karnamey se to jarur sikh lena chahiye

  7. Neeraj Sagar says:

    vote for BMP

  8. tulsi prasad says:

    vote for only BSP

  9. वोटिंग मशीन में गडबडी है और मूलनिवासियो के दिमाग भी गडबड है.

    • Bheem Sangh says:

      क्या बात है.. आपने तो दिमाग का ढक्कन खोल दिया.. 🙂

  10. vote for bmp

  11. rob says:

    Bahin MAYAWATI ji bhi CONG , S P , RLD RJD AIDMK NCP ki tarh pariwaarwaad ki raah pr chal padi hai to unme or anya partiyo main kya antar hai meri samj main nahi aa aya or jab B S P ke utraadhikaar ka hi sawaal tha to kya bhrat ke caroro dalito main se unhe koi nahi mila kya ya MOOLNIWASIYO ke naam par dhokha nahi , sab ek jaise hai bhrast pariwaarwaadi agar Kasio ram ji, MAYAWATI ko b s p main nahi late to kon unhe janta lekin behin ji to Cong , s p ki shyogi rahi hai so unhe bhi parrwaarwaad ka rog lga gya , dalit prem to dhikhwa hai , sataa pane ke liye

  12. Harish Kumar says:

    राष्ट्रीय जूता ब्रिगेड को मजबूत करो क्योंकि यह तोगड़िया जैसे बिगड़ैल दिमागों को दुरुस्त करने की बेहतरीन दवा है. राष्ट्रीय जूता ब्रिगेड ज़िंदाबाद भाई तेज सिंह ज़िंदाबाद. मनुवादियों होश मैं आओ मूलनिवासियों से न टकराओ.
    Ambedkar Samaj Party Zindabad.

  13. Harish Kumar says:

    जिस परिवार का मुखिया बेईमान होता है वो पूरा परिवार बेईमान हो जाता है . जिस संगठन /पार्टी का मुखिया बेईमान होता है उसके सारे कार्यकर्ता बेईमान हो जाते हैं . जब राजा ही चोरी करेगा तो उसके दरबारी भी चोरी करेंगे वैसे भी बसपा एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी थी वह अब कंपनी फ़ैल हो चुकी है इसकी मैनेजिंग डायरेक्टर घोटालों की मलिका बुरी तरह से आरएसएस/भाजपा के गटर मैं समां चुकी है इसके परिवारी डायरेक्टर आनंद बगैरा घोटालों और बेपनाह लूट मैं बुरी तरह फंसे हुए हैं जिनका अंतिम पड़ाव जेल होना तय है. घोटालों की मलिका ने दी 56 इंच की चौड़ी छाती वाले से दोस्ती करने की पहल कर दी है उसे राज्य सभा में समर्थन देकर! लेकिन बसपा के कीड़े मकोड़ों की तरह फैले दलालों का क्या होगा? उन्हें तो कोई पास भी बिठा कर राजी नहीं होगा क्योंकि उन्होंने बसपा के शासनकाल मैं किसी भी गरीब तक को नहीं छोड़ा बगैर पैसा लिए यानि बिना दलाली के!

  14. anil bhalerao says:

    bsp apne logo se kati hui h…
    unhe apne logo se milna chaiye ghr ghr jakr apne updesh ko smjhana chaiye ajkl bhante bi aram ki jindgi jina psand krte h jbki unhe logo k ghr ghr jakr baudh dharm ki shiksha deni chaiye

  15. shivendra kurre says:

    Rajniti me kuch kutniti chal bhi chalni padti hai bahan mayawati bik gai brahmanwadi ho gai mai in sab baton ka khadan karta hu aise ghatiya aarop bahan mayawati par na lagaye jai bhim

  16. koi kuchh naya party ya sangthan banata he to hume khusi lagti he ki koi changes hoga wo v khas kar mulnivasi ya jaat paat ko hatane ki …lekin dekhne ko milta he ki kuchh der to wah wah wah hota he akhir me sab ko sab wahi ek samundr me jake mil jate he …..to kare kya…..isi tarah jab biswas ummid me pani phir jata he to….plz reply….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s