RSS – Exposed


आंबेडकरवादी और मुस्लिम समाज औरमराठा समाज के खिलाफ रचा हुआ”राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ” का षडयंत्र …इस एजंडे पर यहाँ तारीख सही नही है। लेकिन यह एजेंडा एक दम सही और सचा है। जिससे RSS का मूलनिवासियों के प्रति रुख साफ़ होता है कि मूलनिवासी समाज के लोगों को कैसे और कहा कहा दबाया जाये, और कैसे मूलनिवासी समाज के लोगों पर अत्याचार किये जाये।एजंडे का कोड नं. 411/nd/3003/Rss-co-3 है। यह इस एजेंडे में क्या क्या आदेश राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ अपने प्रचारकों और समर्थन करने वालों को देता है वह प्रकार है…

RSS Exposedप्रिय प्रचारक भाईयोँ,
आप पर इस एजंडे के तहत कुछ गुप्त जिम्मेदारी दी जा रही है, इसे पुरा करने का प्रयास करे इस गुप्त एजंडे को मन मे स्मरण करके याद करो… और बाद मे फाड डाले. सभी काम गुप्त और योजनाबद्द तरीके से होना चाहीए… इस तरह का आदेश एजंडे पर लिखा है… एजंडे मे 34 स्वतंत्र कलम है…
1) शस्र और बारुद ज्यादा से ज्यादा इकठा करो ताकि उचित समय पर इसका इस्तेमाल दलित एवं मुस्लिमोँ के कत्ल करने केलिए किया जाए।
2) आंबेडकरवादी और मुस्लिमोँ से हमे खतरा है। दलित समाज के अन्य जातियोँ को अपने पक्ष मे करके उन्हे आंबेडकरवादीयोँ के प्रति नफ़रत का निर्माण करो। बौध्द, मातंग, चर्मकार, माली मे आपसी झगडे डलवाओ और दलितोँ की ये सभी जातीयाँ और मराठा समाज मे आपस मे बैर निर्माण करो।
3) वरिष्ठ अधिकारियोँको कठ्ठर हिँदुत्ववादी बनाओ ताकि कनिष्ठ दलित कर्मचारियोँ को वे नुकसान पहुँचा सके।
4) दवाई विक्रेता को आदेश है कि वे दलित, मुस्लिम एवं आदिवासी समाज के लोगोँ को नकली एवं धीरे धीरे मौत
देनेवाली दवाईया देकर बेमालुम तरीके से उन्हे मौत की नीँद सुलाने का प्रयास करे।
5) दलितोँ को राम राम और ॐ का मंत्र पढने और मराठा समाज को शिवाजी महाराज के साथ साथ जय भवानी और जयहिँद का नारा तथा मंत्र पढने पर मजबुर करो।
6) हिँदुत्व के खिलाफ भाष्य करणे वालोँ का बहिष्कार करो एवं उन्हे प्रताडित करो।
7) दलित समाज को जुआ खेलना, रण्डीबाजी करना, लाटरी लगाना, एवं मादक दृव्य प्राशन करना आदि बेकार आदतोँ के अधीन करने का प्रयास करे और मराठा समाज को शिवाजी का असली इतिहास समझाने ना दे। मराठा समाज को मुस्लिमोँ के और आंबेडकरवादीयोँ के खिलाफ भडकावोँ और मराठा को ज्यादा से ज्यादा धार्मिक बातो मे उलझाये रखके उन्हे कठ्ठर ब्राह्मणवादी बनाने का प्रयास जारी रखो।
8) स्कुल मे पढने वाले मुस्लिम एवं आंबेडकरवादी बच्चोँ के सेहत केलिए घटियाँ खाद्य पदार्थ देकर उन्हे शारिरीक एवं मानसिक रुप से अपंग बनाकर उनमे कुपोषण को बढावा देने वाले पदार्थ देकर उन्हे मौत की नींद सुलाने का प्रयास करे और उन्हे प्रताडित करने का प्रयास करो।
9) दलित मुस्लिम एवं क्रिश्चन समाज की जवान लडकियोँ को वेश्यावृत्ती करने के लिए प्रवृत्त करो। जरुरत पढे तो मजबुर करो और मराठा समाज के जवान लडकियोँ को अपने पक्ष मे करो ताकि उचित समय पर हम उनका इस्तेमाल कर सके।
10) स्कुल मे आंबेडकरवादी, मुस्लिम तथा मराठा समाज के बच्चोँ को हिँदुत्व तथा ब्राम्हणवाद को बढावा देने वाला गलत इतिहास पढाओ, स्कुल के बच्चोँ को भारतीय संविधान के प्रति नफरथ निर्माण करने का और उन्हे मनुस्मृती पठन, गायत्री मंत्र के प्रति आकर्षित करणे का प्रयासजारी रखेताकि वही बच्चे प्रांतवाद, भाषावाद को बढावा देकर देश केव्यवस्था को नुकसान पहुँचा सके।
11) दंगो के समय मुस्लिम दलित महिला परशारिरीक अत्याचार करो। अगरमराठा समाज कि औरत भी इस आडे आयेतो उस पर भी रहम कि भावना मत आने दो।और दंगो के समय पुलिस और प्रशासनकी मद्द से ज्यादा से ज्यादा दलितमुस्लिम समाज के लोगोँ की जान लो।
12) चर्च, बुध्दविहार, और मस्जिद ये हिंदू के मंदिर थे इसे यौवनो ने कब्जे मे लिया इस प्रकार का साहित्य प्रकाशित करो, बहुजन मुलनिवासी महापुरुषोँ का असली इतिहास का संशोधन करने वाले सभी संघटनाओँ पर आरोप प्रत्यारोप जारी रखो, और उन्होने खोजा हुआ मुलनिवासी महापुरुषोँ का असली इतिहास नष्ट करने का प्रयास जारी रखो। बहुजन महापुरुषोँ की जितने भी सारे पवित्र जगह है उसे खत्म कर उस पर हिँदुत्ववादी का कब्जा स्थापित करो।
13) मुस्लिम, क्रिश्चन और बौध्दोँ को बदनाम करने वाला साहित्य प्रकाशित करो।
14) ब्राम्हणोँ को बदनाम करने वाला साहित्य नष्ट करो। अगर सच भी है तो उसे जनता की नजर मे आने मत दो।
15) दलित और पिछडे जाति के कर्मचारियोँ का रिकार्ड बिगाड दो। ताकि वे पदोन्नती से वंचित रहे। और मराठा समाज के ज्यादातर आदमीयोँ को खेतियोँ मे उलझाये रखे। ताकि उन्हे असली इतिहास मालुम ना पड़े। देश कि सत्ता ब्राह्मणों के ही हाथोँ मे रहनी चाहिए। इसलिए मराठा समाज के नेताओँ को अपने पक्ष मे करो। ताकी वे
समाज हितैशी बनने के बजाय, अपने ही लोगोँ के बारे मे सोचे। इसलिए ज्यादा से ज्यादा उनका इस्तेमाल करने
का प्रयास जारी रखे।
16) शिवाजी महाराज को छत्रपती कहने के बजाए उन्हे जनता का राजा राजा, गो ब्राम्हण प्रतिपालक, हिँदू संस्थापक और उसके साथ साथ देवी देवताओँ की कहानियाँ कूछ लेखकों द्वारा, पेपर या इलेक्ट्रीक मीडिया द्वारा झूठी खबरे बार बार मराठा समाज के सामने लाओ।
17) ढोँगी साधू, बाबा, संत, महंत, महाराज इनकी सहाय्यता लेकर मराठा समाज और आंबेडकरवादी, बौध्द समाज मे किर्तन तथा अंधश्रध्दा को फैलाव देने वाला प्रचार एवं प्रसार करो।
18) बौध्द, जैन, क्रिश्चन इन्हे सनातनी बनाने का प्रयास जारी रखो।
19) आंबेडकरवादी, मराठा, मुस्लिम समाज मे आपस मे झगडा निर्माण करवाने पर प्रयास जारी रखो। ताकि ये लोग आपस मे लडकर कमजोर हो जाये।
20) बहुजन मूलनिवासियों के बच्चों को स्कूलों में प्रताड़ित करो। ताकि वो पढ़ लिख कर देश के शीर्ष पदों तक ना पहुँच सके। रैगिंग के नाम पर उनके साथ मार पीट करो, बहुजनों और मराठा लडकियों के साथ रैगिंग के नाम पर और प्रेम के नाम पर शारीरिक सम्बन्ध स्थापित करो और उनकी जिंदगियां बर्बाद कर दो।

यहाँ राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ के कुछ मूलनिवासी समाज विरोधी मुद्दों पर हमने बात की। राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ की यह नीतिया उसके निर्माण के समय से चली आ रही है। हर स्थान पर राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ मूलनिवासी समाज को दबाता और शोषण करता चला आ रहा है। और कुछ मूलनिवासी समाज के लोग भी RSS का साथ दे कर ब्राह्मणवाद को बढावा दे रहे है। RSS के बहुत से गुप्त एजेंडे है जिनके बारे मूलनिवासी समाज के लोगों को खबर तक नहीं होती और मूलनिवासी समाज के लोग उन बातों को सामान्य समझ लेते है। और किसी ना किसी रूप में ब्राह्मणवाद को बढावा देते रहते है। RSS एक देश द्रोही और संविधान द्रोही संगठन है। देश में जितने भी धार्मिक दंगे, झगड़े या मार काट वाले काम होते है, ये अभी दंगे और झगड़े किसी ना किसी रूप से RSS के द्वारा फैलाये और भडकाए जाते है ताकि ज्यादा से ज्यादा मूलनिवासी समाज के लोगों पर अत्याचार कर सके। अब इन एजेंडों की सचाई को मूलनिवासी शूद्रों को समझना होगा और ऐसे संगठनों के खिलाफ आवाज उठानी पड़ेगी तभी मूलनिवासी शुद्र चैन और शांति से इस देश में रह पाएंगे। हमारा उद्देश किसी जाति या धर्म को बढावा देना नहीं है। हमारा उद्देश्य ब्राह्मणवाद की सच्चाई को लोगों के सामने लाना और शुद्र समाज के सभी लोगों को एक झंडे नीचे (बिना किसी की जाति या धर्म को देखे या जाने) संगठित करना है। इसी उद्देश्य से हमारा संगठन काम कर रहा है। दोस्तों अब आपको खुद सोचना पड़ेगा कि हम कब कहा और कैसे अपने समाज को बचाए। आओ हम सब मिल कर देश के हर राज्य और प्रान्त में शुद्र संघ का निर्माण करे, अपने लोगों तक ब्राह्मणवाद की सच्चाई पहुंचाए और देश में मूलनिवासी समाज का शासन स्थापित करने का संकल्प लेकर काम करना शुरू करे। जल्दी ही मंजिल हमारे सामने होगी। ब्राह्मणवादी व्यवस्था का अंत होगा। और बाबा साहब अम्बेडकर के सपनों का भारत बनेगा।

Advertisements

About Bheem Sangh

Visit us at; http://BheemSangh.wordpress.com
This entry was posted in Brahmanism, Current Affairs and tagged , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

4 Responses to RSS – Exposed

  1. Rakesh Wasnik says:

    can you please tell us the source from where you got this..?

  2. kishan vala says:

    bhadhiya kary kar rahe hai aapaa log

  3. alpana devi says:

    मुझे ये तो नहीं मालूम कि यह कहां तक सही है पर इतना तो है कि मूलनिवासियों को पूरी तरह सक्षम बनने के लिए पूरी ताकत से एकजुट होना होगा और हर विरोध को कुशलता पूर्वक दबाना होगा।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s