Ambedkar Views


बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के विचार:
१. तुम भारत के मूलनिवासी और सहोदर भाई हो |
२. तुम को इससे पहले अनार्य, असुर, राक्षस, शुद्र, अछूत और अब दलित या हरिजन कहा जाता है |
३. आर्यों और अनार्यों के युद्ध में तुम्हारी हार का परिणाम तुम्हारी गुलामी है |
४. समस्त भारत भूमि तुम्हारे पूर्वजों की धरोहर है |
५. तुम ही इसके सच्चे और सही उतराधिकारी हो |
६. तुम्हें बलात गुलाम बनाया गया है |
ambedkar3७. तुम्हारे धन और धरती पर बलात कब्ज़ा किया गया है |
८. तुम्हारी सभ्यता, संस्कृति, साहित्य, इतिहास और धर्म नष्ट कर दिया गया है|
९. तुम्हें धर्म का भी गुलाम बना लिया गया है
१०. तुम हिन्दू कभी नहीं थे, तुम आज भी हिन्दू नहीं हो
११. तुम हिन्दू धर्म के गुलाम हो
१२. हिन्दू धर्म छोडना धर्म परिवर्तन नहीं बल्कि गुलामी की जंजीरे तोडना है |
१३. इसे वीर ही कर सकते है, तुम्हारे पूर्वज वीर थे
१४. तुम्हारी रगों में उनका खून है इसे पहचानो
१५. शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करो विजय तुम्हारी है
१६. जाती के आधार पर किसी को ऊँचा मानना पाप है, और नीचा मानना महापाप
१७. हिन्दू धर्म की आत्मा वर्ण जाती और ब्राहमण हितेषी कर्मकांडो में है |
१८. वर्ण और जाति के बिना हिन्दू धर्म की कल्पना ही नहीं की जा सकती |
१९. हिन्दू धर्म में कर्म नहीं जाति प्रधान है |
२०. जब तक तुम हिन्दू धर्म के गुलाम रहोगे तुम्हारा स्थान सबसे नीचा रहेगा
—————————————————————————
तुम हिन्दु क्यों नहीं हो ?

१. हिन्दु धर्म वर्णों का है तुम किसी भी वर्ण मैं नहीं आते हो, जबरदस्ती सबसे नीचे वर्ण मैं रखा है |
२. हिन्दु धर्म के कर्मकांडों को तुम्हे नहीं करने दिया गया और तुम नहीं कर सकते हो |
३. हिन्दु धर्म के भगवान् उनके अवतार और उनके देवी देवता ना तो तुम्हारे है और ना तुम उनके हो |
४. इसलिए वे तुम्हारे साये से भी परहेज करते आये हैं और आज भी कर रहे है |
५. कुत्ते बिल्ली की पेशाब से उन्हें कोई परहेज नहीं है परन्तु तुम्हारे द्वारा दिए गए गंगा जल से अपवित्र हो जाते हैं|
६. उनकी पुनः शुद्धि गाये के मल-मूत्र से होती है |
७. हिन्दू धर्म के देवी देवता तुम्हारे पूर्वजों के हत्यारे हैं |
—————————————————————————
सामाजिक स्थिति:

१. तुम्हें सम्मान, मानव अधिकार, सामान अधिकार, सामाजिक अधिकारों से वंचित रखा गया है
२. तुम अनार्य (हिन्दू) समाज की परिधि-रेखा के बाहर के आदमी हो |
३. इसलिए विद्या अर्जन तुम्हारे लिए वर्जित था
४. धन इकठ्ठा करना पाप था
५. शारीरिक क्षमता बढ़ाना माना था
६. राजनीति की बात तो सोचना स्वप्न में भी मना था, तुम्हारे हिस्से सिर्फ काम ही काम दिया गया|
७. तुम्हारी मुख्य समस्या तुम्हारी गरीबी नहीं बल्कि हिन्दू धर्म और समाज है, जिसमें जाती के आधार पर तुम्हारा धार्मिक, सामाजिक, आर्थिक एव राजनैतिक शोषण हो रहा है |

—————————————————————————
१५ अगस्त १९४७

१. तुम्हारी विरासत पर तीन बाल हमला हुआ:
-आर्यों का
-मुसलमानों का
-अंग्रेजों का
२. तुम दूसरी और तीसरी गुलामी में फंस गए |
३. १५ अगस्त १९४७ को तुम्हें गुलाम बनाने वाले आजाद हो गए पर तुम्हे चार हज़ार वर्ष पूर्व गुलाम बनाने वालों ने तुम्हें आजाद नहीं किया |
४. तुम्हारी लड़ाई चंद अधिकारों की लड़ाई नहीं है ये तो आज़ादी की लड़ाई है |
५. इस लड़ाई के लिए मैंने तुम्हें महा अस्त्र दिया है जो हिन्दुओं के ब्रह्मास्त्र से भी बड़ा है
६. ये अस्त्र है – एक व्यक्ति का एक वोट (मताधिकार)
७. राजा बनने के लिए रानी के पेट की जरूरत नहीं, तुम्हारे वोट की जरूरत है |
८. तुम अपने वोट से खुद राजा बन सकते हो |
९. तुम्हें जो आरक्षण मिला है ये किसी की दया या भीख नहीं है, ये तुम्हारा अधिकार है |
८. अधिकार मांगने से नहीं मिलता इसे छीनना होता है इसे छीन लो |
९. ऐसा करने में क़ुरबानी देनी होती है, जिस कौम में क़ुरबानी देने वाले नहीं वो कौम कभी आगे नहीं बढ़ सकती, क़ुरबानी दो आगे बढ़ो
१०.सावधान रहो अपने खिलाफ की जाने वाली साजिशों को पहचानो और विफल करो |
११. तुम्हें अपने पैर चाहिए बैसाखी नहीं |
१२. संस्कार में दिए गए सूअर, भेड़, बकरे, मुर्गे, जूता सिलने की मशीन तुम्हारा आर्थिक उत्थान नहीं कर सकेंगे |
१३. ये तुम्हारे और तुम्हारी आने वाली पीढ़ीयों को ख़राब करने की साजिश है, इसका बहिष्कार करो |
१४. पूना-पेक्ट की वजह से तुम्हारा राजनैतिक अधिकार बेमाने हो गए है |
१५. इससे तुम्हारा राजनैतिक प्रतिनिधित्व विकलांग ही नहीं बल्कि लक्वाग्रह्स्त हो गया है |
१६. नौकरी मैं आरक्षण पूरा ना होने के कारण तुम्हारे लाखो-करोड़ों भाई बेकार है |
१७. इससे तुम्हारे समाज का लाखों करोड़ का नुक्सान हो रहा है, इस नुक्सान को बचाओ|
१८. याद रखो तुम्हारे प्रति जो सवर्णों का आकर्षण है वो प्रेम नहीं बल्कि तुम्हारे खो जाने का भय है |
१९. इक्कीसवीं सदी तुम्हारी होगी इसे कोई रोक नहीं सकता इस पर विश्वास करो |
२०. याद रखो अन्याय का विरोध सम्मान और अधिकार की प्राप्ति ही जीवन है |

Advertisements

About Bheem Sangh

Visit us at; http://BheemSangh.wordpress.com
This entry was posted in Dr. BR Ambedkar and tagged . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s