Yadavo Ka Sach


कुछ सवाल है मेरे मन में जो मुझको बहुत कंफ्यूज कर रहे हैं –
१. क्या देवकी और वासुदेव वास्तव में ही यादव थे ? यदि हाँ तो फिर देवकी वासुदेव को आर्यपुत्र कहकर क्यों संबोधित करती थी ? अगर नहीं तो फिर कृष्ण कैसे यदुवंशी हो गया ?
क्या सिर्फ कृष्ण को इसलिए यदुवंशी बना दिया गया क्योंकि उसका पालन पोषण नन्द ने किया था जो यादव थे ?
२. महाभारत का युद्ध समाप्त होने के बाद गांधारी कृष्ण को शाप देती है कि तुम्हारे यहाँ सेजाते ही यादवो का वंश समाप्त हो जायेगा जिसके बाद यादव आपस में लड़कर समाप्त हो गए और कृष्ण का वध एक बहेलिये ने कर दिया |
अगर यादवो का वंश समाप्त हो गया था तो फिर कृष्ण का पुत्र प्रद्युम्न कैसे जीवित रह गया था ?
क्या प्रद्युम्न यादव नहीं था ? अगर यादव नष्ट हो गए थे तो फिर यादवो की उत्पत्ति कैसे हो गयी ?
Krishna and Balaram fight the Yadu Dynasty३. यादव वंश की समाप्ति के अर्जुन कृष्ण की पत्नियों को हस्तिनापुर ले जा रहा था तो कुछ भीलो ने अर्जुन को हराकर कृष्ण की पत्नियों को उससे छीन लिया |
अर्जुन एक साथ इतना निर्बल कैसे हो गया कि कुछ भीलो ने ही उसको आराम से पराजित कर दिया|
क्योंकि ये घटना तो पांडवो के वानप्रस्थ जाने से बिलकुल पहले की हैं |
पांडवो ने लगभग ४० वर्ष शासन किया था इस तरह सेक्या कुंती का श्राप ४० वर्ष बाद फलीभूत हुआ था |
४. अगर कृष्ण यदुवंशी थे तो पांडव यदुवंशी क्यों नहीं थे क्योंकि पांडवो की माता कुंती कृष्ण की बुआ थी |
इस तरह से उनके बीच खून का सम्बन्ध था | अगर पांडव भी यदुवंशी थे तो फिरवो नष्ट क्यों नहीं हुए ?
अगर पांडव यदुवंशी नहीं थे तो फिर उनके बीच परस्पर वैवाहिक सम्बन्ध कैसे स्थापित हो गए ?
क्या उस समय वर्ण व्यवस्था या जाति प्रथा नहीं थी ? अगर जाति प्रथा नहीं थी तो यादव, क्षत्रिय, ब्राह्मण, वैश्य क्या थे जिनका महाभारत में बार बार जिक्र हुआ है ?
अगर छुआछूत नहीं थी तो फिर कर्ण को बार बार शुद्पुत्र कहकर क्यों अपमानित किया जाता रहा ?

Advertisements

About Bheem Sangh

Visit us at; http://BheemSangh.wordpress.com
This entry was posted in Scriptures and tagged . Bookmark the permalink.

3 Responses to Yadavo Ka Sach

  1. Dear questions are extremely significant not only from the mythological point of view but also from the sociological point of view… yet I do not have any fixed answer.. I need to read a lot before I get back to you….thanks with regards…..
    Dr. Vinod Sonkar
    Asst. Professor of Law
    National Law University, Delhi

    • Bheem Sangh says:

      Thanks Dr. Vinod Sonkar 🙂

      You can come back at any time… Your Most Welcome… 🙂

  2. hemlata mongre says:

    Bhut accha hi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s