Ramayan – Ek Jhuth


हमारे भारत में बहूत बड़े-बड़े महान ज्ञानी पण्डित लोग भी है जो लाम्बी-लम्बी हांकते है, और राम के असत्तित्व के प्रमाण देते है, और कूछ मूर्ख तो ऐसा भी कहते है कि साइंस ने सिध्द कर दिया है कि राम थे, और राम का जन्म किस साल कौन सी तारीख को, कौन से महीने और कौन से वक्त हुआ था ये भी ईन लोगो ने ऐक सोफ्टवेयर द्वारा पता लगा लिया हे ऐसा दावा करते है….
और रामायण एक सत्य कहानी है,उन सभी साइन्टीफिक दुष्ट, पापी, पाखण्डी ब्राह्मणो से मेरा एक साइन्टीफिक सवाल क्या उडनछू बन्दर हनुमान के पसीने मे शुक्राणू थे ???
वैसे तो कालप्नीक हास्य कथा रामायण के अनुसार हनुमान ब्रम्हचारी थे, लेकिन उनका एक पूत्र भी था जिसका नाम था, ” मकरध्वज ” ।।।।
hanumaanरामायण के अनुसार, जब हनुमान लंका को अपनी पूछ से जलाकर आ रहे थे तो, उन्होने सागर की गहराई मे गोता लगाया, उसी समय, हनुमान के पसीने की एक बून्द टपकी और उस बून्द को एक विशाल मछली ने पी लिया और उस पसीने की बून्द से वह मछ्ली गर्भवती हो गयी, और उसने, हनुमान के पूत्र मकरध्वज को जन्म दिया.अब इस बेवकुफी पर आप सभी महाज्ञानी ब्रह्मंवादियों से मेरे कूछ सवाल:
1) क्या हनुमान के पसीने मे भी शूक्राणू थे ??
2) दुनिया मे एसा कौन सा जीव है, जो मुखद्वार और वो भी पसीने से गर्भवती हो जाता हो, वो ऐसी कौन सी मछली थी ???
3) और मछलीया तो अण्डे देती है, तो भी क्या हनूमान के पूत्र का जन्म अण्डे से हुआ????
4) क्या पानी मे किसी को पसीना आ सकता है, अगर आभी जाये तो पसीन तुरंत पानी मे मिल जायेगाना की उसकी बून्द रहेगी.
मुझे तो रामायण जैसी महा काल्पनीक किताब पड़्कर तो सिर्फ हंसी आती है, ना जाने ये बेवकुफ ऐसी काल्पनीक कहानी पर विश्वास कैसे कर लेते है…

Advertisements

About Bheem Sangh

Visit us at; http://BheemSangh.wordpress.com
This entry was posted in Scriptures and tagged . Bookmark the permalink.

3 Responses to Ramayan – Ek Jhuth

  1. Dr Parmeshwar Gangawat says:

    एक मूर्ख व्यक्ति अपनी समझ के अनुसार ही बात करता है और अपनी तुच्छ समझ के अनुसार ही समझ सकता है । पहले अपने भाषा के ज्ञान को ठीक कीजिये तत्पश्चात अपनी बुद्धि को विकसित कीजिये। रामायण के रचयिता ब्रह्मर्षि वाल्मीकि ब्राह्मण नहीं वरन जन्म से शूद्र थे जिन्होंने अपने तप , ज्ञान और साधना से ब्रह्मर्षि की उपाधि प्राप्त की थी । और वेदों में कर्म प्रधान वर्ण व्यवस्था को ही माना है जिसका जन्म से कोई सम्बन्ध नहीं है । इस प्रकार के दुष्प्रचार के द्वारा धार्मिक भावनाओ को ठेस मत पहुचाइए । सूर्य पर पत्थर मारने से सूर्य को कोई हानि नहीं होती बल्कि आपकी ही मूर्खता सिद्ध होती है ।

    • Bheem Sangh says:

      आपके पास ओई सबूत हो तो कृपया हमे जरूर भेजे… धन्यवाद…

    • Dushyant says:

      Barso purani ek kitab aur uske patra lekar aap videshi bhatone pure desh ko hairan kar rakha hai
      apne desh iran wapas chale jao bhai doctor jahase zorashtriyans ne aapko khadeda tha indrake,bartawa se . Aapke indra devatako tyagkar baki devata kyun banaye ?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s